म्याँमार सरकार के ख़िलाफ़ विश्व आपराधिक अदालत में मुक़दमा

म्याँमार सरकार के ख़िलाफ़ विश्व आपराधिक अदालत में मुक़दमा

एक्सप्रेस न्यूज़ की रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तानी वकील ने म्यांमार में हो रहे मुसलमानों पर ज़ुल्म के ख़िलाफ आवाज़ उठाते हुए वहां की सरकार और मज़हबी पेशवा के विरोध में मुक़दमा दायर किया, उन्होंने कहा कि आन साँग सू ची और आशिन वराथु मुसलमानों के क़त्ले आम में सहायता कर रहे हैं

अहलेबैत (अ )न्यूज़ एजेंसी अबना : प्राप्त सूत्रों के अनुसार पाकिस्तानी वकील बैरिस्टर इक़बाल जाफ़री नें बर्मा की सरकार आन सांग सू ची और धार्मिक नेता आशिन वराथु के विरोध में विश्व आपराधिक अदालत में मुकदमा दायर कर दिया है। एक्सप्रेस न्यूज़ की रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तानी वकील ने म्यांमार में हो रहे मुसलमानों पर ज़ुल्म के ख़िलाफ आवाज़ उठाते हुए वहां की सरकार और धार्मिक लीडर के विरोध में मुक़दमा दायर किया, उन्होंने कहा कि आन साँग सू ची और आशिन वराथु  मुसलमानों के क़त्ले आम में सहायता कर रहे हैं, और जिसकी वजह से रोहिंग्या के मुसलमान पलायन करने पर मजबूर हैं। इस बीच सैकड़ों मुसलमानों की या तो हत्या हो चुकी है या पानी में डूब कर मर गए और सैकड़ों मुसलमानों को ज़िंदा जला दिया गया उन्होंने इस नरसंहार के ख़िलाफ़ अदालत में आवाज़ उठाई है। ज्ञात रहे की बुद्ध धर्म के धार्मिक लीडर आशिन वराथु बुद्ध मत के मानने वाले लोगों को मुसलमानों के खिलाफ उकसाते हैं ।दुनिया के लाखों लोगों ने आन सांग सू ची से नोबेल पुरस्कार वापस लेने की मुहिम भी शुरू कर रखी है जिस पर अब तक लाखों लोग हस्ताक्षर कर चुके हैं।


सम्बंधित लेख

अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

Arba'een
आशूरा: सृष्टि का राज़
सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह ख़ामेनई का हज संदेश
We are All Zakzaky