आले सऊद के युद्धोन्माद का यमनी जवाब

आले सऊद के युद्धोन्माद का यमनी जवाब

आले सऊद शासन ने यमन संकट के राजनीतिक समाधान का हर रास्ता बंद कर दिया है जिसके बाद अब यमन के जन प्रतिरोध ने उन्हें, उन्ही ही ज़बान में जवाब देना आरंभ कर दिया है।

आले सऊद शासन ने यमन संकट पर वार्ता की राह में एक बार फिर बाधा उत्पन्न की जिसकी वजह से वार्ता स्थगित हो गयी। क्योंकि अंसारुल्लाह आंदोलन की उच्च राजनीतिक परिषद ने जेनेवा वार्ता में भाग लेने पर तत्परता प्रकट की थी मगर सऊदी गठबंधन ने उस हवाई जहाज़ को उड़ने ही नहीं दिया जो ओमान से सनआ जाकर अंसारुल्लाह के प्रतिनिधि मंडल को लाने वाला था इस से पहले भी सऊदी गठबंधन, जनेवा वार्ता को इसी हथकंडे से स्थगित करा चुका है। 

सऊदी अरब के अपराधों का जवाब देते हुए यमन  ने घोषणा की है कि उसने बद्र-1 प्रकार के दो स्वदेशी बैलेस्टिक मिसाइलों से जीज़ान एयरपोर्ट को निशाना बनाया है। इस से पहले भी यमन की सेना ने बद्र- 1 मिसाइल से सऊदी अरब की राष्ट्रीय तेल कंपनी आरामको की रिफाइनरी को निशाना बनाया था। यमन का जन प्रतिरोध आंदोलन अपने बल पर और अपनी क्षमताओं के भरोसे, सऊदी गठबंधन से मुकाबला कर रहा है जिसे अमरीका, ब्रिटेन सहित कई पश्चिमी देशों का पूरा सहयोग प्राप्त है लेकिन इसके बावजूद सऊदी और उसके सहयोग, बड़े आश्चर्य और दुख के साथ, यमन में अपनी हार देख रहे हैं और अपनी इस हार पर पर्दा डालने के लिए वह यमन में महिलाओं और बच्चों के विरुद्ध अपराध बढ़ा रहा है और इस देश की घेराबंदी कड़ी करके, इस देश की पीड़ित जनता के दुखों में वृद्धि कर रहा है किंतु सब से दुख की बात यह है कि सऊदी अरब के इन अपराधों पर विश्व समुदाय विशेष कर संयुक्त राष्ट्र संघ चुप है और यह चुप्पी सऊदी अरब के दुस्साहस को बढ़ा रहा है। 


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह ख़ामेनई का हज संदेश
We are All Zakzaky