सय्यद हसन नसरुल्लाह ने बताया कि किस वजह से आज फ़िलिस्तीन की यह स्थिति हुयी

सय्यद हसन नसरुल्लाह ने बताया कि किस वजह से आज फ़िलिस्तीन की यह स्थिति हुयी

लेबनान के हिज़्बुल्लाह संगठन के महासचिव सय्यद हसन नसरुल्लाह ने कहा है कि अरब शासकों में डर की वजह से आज फ़िलिस्तीन की यह स्थिति हुयी है।

उन्होंने कहा कि अरब शासकों में डर की वजह से पिछले 70 साल में उनकी स्थिति और संपत्ति बर्बाद हुयी, फ़िलिस्तीन चला गया और क्षेत्र में अमरीका के हस्तक्षेप का रास्ता खुला।

सय्यद हसन नसरुल्लाह ने बुधवार की रात राजधानी बैरूत के दक्षिणी उपनगरीय भाग में मोहर्रम के अवसर पर इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम की शोकसभा को संबोधित करते हुए कहाः मुझे नहीं लगता अरब या इस्लामी जगत में ऐसा कोई नेता, शासक, राष्ट्रपति, सांस्कृतिक व आर्थिक मामलों का विशेषज्ञ और सैन्य कमान्डर हो जो ज़ायोनी शासन की हक़ीक़त को न जानता हो और इस बात को स्वीकार न करता हो कि इस्राईल नाम की किसी चीज़ का वजूद नहीं था।

उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया से ज़ायोनी यहूदी गुट आए और उन्होंने फ़िलिस्तीन का अतिग्रहण कर लिया, बड़ी संख्या में फ़िलिस्तीनी राष्ट्र को जनसंहार, आतंक, धोखे व मक्कारी से विस्थापित किया और अंतर्राष्ट्रीय समर्थन से अतिग्रहणकारी शासन क़ायम किया।

1948 में ज़ायोनियों ने ब्रिटेन और अमरीका सहित पश्चिमी देशों के समर्थन से  फ़िलिस्तीन देश के ज़्यादा इलाक़े पर क़ब्ज़ा कर लिया और अब भी क़ब्ज़ा कर रहे हैं।

सय्यद हसन नसरुल्लाह ने बल देकर कहा कि ज़ायोनी शासन और ज़ायोनीवाद के ख़िलाफ़ संघर्ष के आरंभ से पहचान की समस्या कभी नहीं रही बल्कि अस्ल समस्या बलिदान, मदद करने की तत्परता और दृष्टिकोण का अभाव था। उन्होंने कहा कि शासन, नेता, शासक और राष्ट्रपति अपनी सत्ता व गद्दी की ओर से चिंतित हैं कि इसकी वजह उनके मन में अमरीका और ब्रिटेन का डर है क्योंकि कोई भी अगर उनके ख़िलाफ़ दृष्टिकोण अपनाता है तो वे उस पर लाखों इल्ज़ाम लगाते और उसकी हुकूमत गिराने के लिए हर कृत्य करते हैं।

उन्होंने बल दिया कि पिछले 70 साल से इस्लामी व अरब देशों के शासकों में अपनी सत्ता, संपत्ति, औलाद व विशिष्टताओं को लेकर डर इस बात का कारण बना कि वे अलग दृष्टिकोण अपनाएं।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

आशूरा: सृष्टि का राज़
सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह ख़ामेनई का हज संदेश
We are All Zakzaky