ईरान और फ्रांस के राष्ट्रपति की परमाणु समझौते पर टेलीफ़ोनिक बातचीत

ईरान और फ्रांस के राष्ट्रपति की परमाणु समझौते पर टेलीफ़ोनिक बातचीत

टेलीफ़ोन पर होने वाली इस बातचीत में फ्रांस के राष्ट्रपति ने भी कहा कि उनका देश परमाणु समझौते का पाबंद है और उसे बचाने के लिए किसी भी कोशिश को नहीं छोड़ेगा।

अहलेबैत (अ )न्यूज़ एजेंसी अबना : प्राप्त सूत्रों के अनुसार ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनवैल मैक्रोन की ओर से की जाने वाले टेलीफ़ोनिक बातचीत में परमाणु समझौते से संबंधित यूरोपीय यूनियन विशेष रूप से फ्रांस के मत की सराहना की।
 हालांकि उन्होंने इस बात पर बल दिया कि इन बयानात और अपनी राय पर अमल करने की आवश्यक्ता है।
 डॉक्टर हसन रूहानी ने इस बात पर ज़ोर दिया कि हमें दूसरों को यह इजाज़त नहीं दी जानी चाहिए कि वह एक तरफा वादा ख़िलाफी के द्वारा परमाणु समझौते जैसे महत्वपूर्ण संबंधों को समाप्त करें।
 उन्होंने कहा कि अगर ईरान को परमाणु समझौते में रहने से कोई फायदा नहीं मिलेगा तो यह सिलसिला देर तक नहीं चल सकता और समझौते में ईरान के शामिल रहने का कोई मतलब नहीं रहेगा।
 ईरानी राष्ट्रपति ने आशा व्यक्त की कि परमाणु समझौते में शामिल 5 देशों और यूरोपीय यूनियन की आपसी कोशिशों के द्वारा अच्छे परिणाम निकलेंगे।
 इस मौके़ पर डॉक्टर हसन रूहानी ने सीरिया के हालात की बात करते हुए कहा कि सीरिया में ईरान के सैनिकों की मौजूदगी सीरियन सरकार की प्रार्थना पर है। जिसका मक़सद आतंकवाद के खिलाफ़ आपसी सहयोग ही है।
 टेलीफ़ोन पर होने वाली इस बातचीत में फ्रांस के राष्ट्रपति ने भी कहा कि उनका देश परमाणु समझौते का पाबंद है और उसे बचाने के लिए किसी भी कोशिश को नहीं छोड़ेगा।
 इमैनवैल मैक्रोन ने कहा कि ईरान के साथ परमाणु समझौते की रक्षा किए जाने का सिलसिला जारी है।




अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह ख़ामेनई का हज संदेश
We are All Zakzaky