सऊदी पत्रकार ख़ाशुक़जी के शरीर के टुकड़े टुकड़े करने में 7 मिनट लगे, ज़िंदा रहते हुए ही...

सऊदी पत्रकार ख़ाशुक़जी के शरीर के टुकड़े टुकड़े करने में 7 मिनट लगे, ज़िंदा रहते हुए ही...

जमाल ख़ाशुक़जी की हत्या में 7 मिनट का समय लगा, सऊदी पत्रकार के जीवन के अंतिम क्षणों का ऑडिये टेप सुन्ने वाले एक वरिष्ठ तुर्क अधिकारी ने मिडिल ईस्ट आई को यह सूचना दी है।

इस्तांबुल स्थित सऊदी कांसूलेट में कौंसल जनरल के दफ़्तर से पत्रकार को खींचकर दूसरे कमरे में पढ़ने की एक मेज़ पर ले जाकर डाल दिया गया।

उस समय पत्रकार की भयानक चीख़ें सीढ़ियों के नीचे खड़े एक गवाह ने ख़ुद सुनी थीं।

सूत्र का कहना है कि कौंसलर को उनके कमरे से बाहर ले जाया गया था। पत्रकार से पूछताछ की बिल्कुल कोशिश नहीं की गई, बल्कि वे उनकी हत्या करने के इरादे से ही वहां पहुंचे थे।

दो अक्तूबर को सऊदी कांसूलेट में प्रवेश करने वाले ख़ाशुक़जी की दर्दनाक एवं भयानक चीख़ें उस समय रुकीं, जब उन्हें इंजेक्शन लगाया गया।

15 सदस्यीय हत्यारी टीम में फ़ॉरेसिंक एवं पोस्टमॉर्टम विशेषज्ञ सलाह मोहम्मद अल-तुबैग़ी भी शामिल थे, जो उसी दिन एक निजी विमान से तुर्की पहुंचे थे।

अल-तुबैग़ी के सामने ख़ाशुक़जी का शरीर मेज़ पर पड़ा हुआ था और उन्होंने उनके शरीर के टुकड़े करने शुरू कर दिए, जबकि वे अभी ज़िंदा थे।

सूत्र का कहना है कि अल-तुबैग़ी को सऊदी पत्रकार के शरीर के टुकड़े टुकड़े करने में केवल 7 मिनट लगे।

अल-तुबैग़ी ने जब ख़ाशुक़जी के टुकड़े करने शुरू किए तो कानों में एयरफ़ोन लगा लिया और संगीत सुनना शुरू कर दिया, अपनी टीम के दूसरे सदस्यों को भी उन्होंने ऐसा ही करने के लिए कहा।

तुबैग़ी ने अपनी टीम के सदस्यों से कहा, जब मैं इस तरह का कोई काम अंजाम देता हूं तो संगीत सुनता हूं, आप लोगों को भी ऐसा ही करना चाहिए।

तुर्क न्यूज़पेपर सबाह ने दावा किया है कि इस ऑडियो टेप में से 3 मिनट की रिकॉर्डिंग उसके पास है, हालांकि अख़बार ने अभी तक इसे सार्वजनिक नहीं किया है।

न्यूयॉर्क टाइम्स ने तुर्क सूत्रों के हवाले से रिपोर्ट दी थी कि अल-तुबैग़ी के पास शरीर के टुकड़े करने के लिए एक आरी थी, जिसे वह अपने साथ लेकर गए थे।

2014 में लंदन बेस्ड सऊदी अख़बार अश्शर्क़ अल-ऑवसत ने अल-तुबैग़ी का एक इंटरव्यू प्रकाशित किया था, जिसमें उन्होंने बताया था कि हज के दौरान मरने वाले हाजियों का पोस्टमॉर्टम मोबाइल क्लिनिक में 7 मिनट में किस तरह अंजाम दिया जाता है।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह ख़ामेनई का हज संदेश
We are All Zakzaky