संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में बैतुल मुक़द्दस मुद्दे पर प्रस्ताव पारित।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में बैतुल मुक़द्दस मुद्दे पर प्रस्ताव पारित।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सदस्य देशों को एक प्रस्तावित प्रस्ताव का ड्राफ़्ट बांटा जा रहा है जिसमें कहा गया है कि बैतुल मुक़द्दस की हैसियत पर एकतरफ़ा फ़ैसले का कोई क़ानूनी महत्व नहीं है।

अहलेबैत न्यूज़ एजेंसी अबना: संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सदस्य देशों को एक प्रस्तावित प्रस्ताव का ड्राफ़्ट बांटा जा रहा है जिसमें कहा गया है कि बैतुल मुक़द्दस की हैसियत पर एकतरफ़ा फ़ैसले का कोई क़ानूनी महत्व नहीं है।
रोइटर्ज़ की रिपोर्ट के अनुसार शनिवार को बांटे जाने वाले इस प्रस्तावित प्रस्ताव के ड्राफ़्ट में तमाम राज्यों से कहा गया है कि वह बैतुल मुक़द्दस में अपने दूतावास न बनाऐं और इस प्रस्तावित प्रस्ताव में यह भी कहा गया है कि बैतुल मुक़द्दस की हैसियत पर एकतरफा फ़ैसले को निरस्त कर दिया जाए राजनयिकों का कहना है कि प्रस्ताव को सुरक्षा परिषद के अधिकतर सदस्य देशों का समर्थन प्राप्त है लेकिन माना जा रहा है कि अमेरिका प्रस्ताव को वीटो कर देगा।
संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में प्रस्ताव की मंजूरी के लिए कम से कम 9 सदस्य देश और पांच स्थाई देशों के समर्थन की आवश्यकता होती है जबकि स्थाई देश अमेरिका, चीन, फ्रांस, ब्रिटेन और रूस में से कोई भी इसे वीटो कर के रद्द कर सकता है।
इससे पहले पिछले हफ़्ते इस्लामी देश सहयोग संगठन ओआईसी ने दुनिया से मांग की थी कि वह बैतुल मुक़द्दस को फ़िलिस्तीनी राज्य की राजधानी के तौर पर मानें।
ज्ञात रहे कि अमेरिका दुनिया का पहला देश है जिसने बैतुल मुक़द्दस को इस्राईल की राजधानी मानने की घोषणा की है इस फैसले पर अमेरिका को वैश्विक स्तर पर घोर निंदा का सामना करना पड़ रहा है जिसके बाद दुनिया के विभिन्न देशों में इस्राईल, अमेरिका विरुद्ध और फ़िलिस्तीन के समर्थन में विरोध प्रदर्शन हुए और विभिन्न मंचों पर इस फ़ैसले की निंदा की गई है।


सम्बंधित लेख

अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

Quds cartoon 2018
We are All Zakzaky