लंदन स्थित मस्जिद के इमाम ने सऊदी अरब पर लगाया मस्जिद से निकलवाने का आरोप

लंदन स्थित मस्जिद के इमाम ने सऊदी अरब पर लगाया मस्जिद से निकलवाने का आरोप

लंदन स्थित एक इमाम ने सऊदी अरब पर आरोप लगाया है कि सऊदी युवराज की आलोचना करने के कारण सऊदी सरकार ने उन्हें मस्जिद से निकलवा दिया है।

गूगल स्ट्रीट मस्जिद के पेश इमाम अजमल मसरूर ब्रिटिश मुसलमानों से संबंधित मुद्दों पर खुलकर अपने विचार रखने के लिए जाने जाते हैं।

इस मस्जिद को मुस्लिम वर्ल्ड लीग संगठन द्वारा संचालित किया जाता है, जिसे सऊदी अरब की ओर से फ़ंड उपलब्ध कराया जाता है।

पेश इमाम अजमल मसरूर को मुस्लिम वर्ल्ड लीग के कार्यालय में महीने में एक बार जुमे की नमाज़ पढ़ाने से भी रोक दिया गया है।

ग़ौरतलब है कि कुछ ही दिन पहले मसरूर ने अपने फ़ेसबुक पेज पर मिडिल ईस्ट आई के एक वीडियो को शेयर करते हुए आले सऊद परिवार को भ्रष्ट, अत्याचारी और पूर्ण रूप से इस्लाम विरोधी बताया था।

एक दूसरे पोस्ट में उन्होंने सऊदी अरब में कार्यकर्ताओं और इस्लामी विद्वानों को जेलों में ठूंसने के लिए सऊदी युवराज मोहम्मद बिन सलमान की आलोचना की थी।

मिस्जिद से निकालने गए पेश इमाम का कहना था कि मुझे 100 फ़ीसदी विश्वास है कि उन्होंने मुझे मोहम्मद बिन सलमान की ग़लत नीतियों की आलोचना के कारण निकाला है।

उन्होंने कहा, पिछले पांच वर्षों में मुझे कम से कम पांच बार सऊदी अरब की नीतियों की आलोचना करने के लिए नोटिस दिया गया।

इमाम का कहना था कि संगठन के अधिकारी मुझ पर दबाव डालते थे कि मैं आले सऊद शासन के बारे में कोई टिप्पणी नहीं करूं। जिसके बाद मैंने यह बात स्वीकार कर ली थी कि मैं मस्जिद में दिए जाने वाले भाषणों में सऊदी अरब की आलोचना नहीं करूंगा, लेकिन सोशल मीडिया पर मुझे अपने विचार रखने की पूरी आज़ादी होनी चाहिए।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह ख़ामेनई का हज संदेश
We are All Zakzaky