मुसलमानों में एकता आजकी सबसे बड़ी ज़रूरत।

मुसलमानों में एकता आजकी सबसे बड़ी ज़रूरत।

32 वी हैदरी कॉन्फ्रेंस में खानकाहे हैदरिया हसनपुरा शरीफ के नायब सज्जादा नशीन डॉक्टर सैयद नाहीद अहमद ने कहा कि राष्ट्रीय स्तर पर मुसलमानों के दरमियान इत्तिहाद और इत्तिफाक़ की सख्त जरूरत है

अबनाः 32 वी हैदरी कॉन्फ्रेंस में खानकाहे हैदरिया हसनपुरा शरीफ के नायब सज्जादा नशीन डॉक्टर सैयद नाहीद अहमद ने कहा कि राष्ट्रीय स्तर पर मुसलमानों के दरमियान इत्तिहाद और इत्तिफाक़ की सख्त जरूरत है । और इस्लाम धर्म पूरी दुनिया में अपने अमन व शांति मोहब्बत के पैगाम की वजह से अहमियत की निगाह से देखा जाता है ।
लेकिन अफसोस है कि आज इस्लाम का कलिमा पढ़ने वाले लोग आपस में ही दस्त बगरीबां हैं। और इसकी वजह से मुसलमानों की अहमियत घटती जा रही है, और तरह-तरह के मसाइल इनके सामने खड़े किए जा रहे हैं । कभी तलाके़ सलासा के नाम पर और कभी लव जिहाद के नाम पर जुल्मो सितम का निशाना बनाया जा रहा है । और इस्लाम की अजमत के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है ।
और मासूम बेगुनाह नौजवानों की जान ली जा रही है, जो निहायत चिंताजनक है । इसलिए शरीयत के उसूल पर हमें खुद सख्ती से अमल करने की ज़रूरत है, और पैग़ंबरे इस्लाम के पैगाममे अमन को लोगों तक पहुंचाने की ज़रूरत है ।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह ख़ामेनई का हज संदेश
We are All Zakzaky