बिन सलमान, ख़ाशुक़जी के हाथों हर दिन हज़ार बार मारे जा रहे हैं

बिन सलमान, ख़ाशुक़जी के हाथों हर दिन हज़ार बार मारे जा रहे हैं

एक प्रख्यात अरबी समाचारपत्र ने अपने लेख में लिखा है कि सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस ने एक बार एक सऊदी पत्रकार की हत्या की लेकिन इस मूर्खतापूर्ण फ़ैसले के परिणाम उनका पीछा नहीं छोड़ रहे हैं।

रायुल यौम में प्रकाशित होने वाले अपने लेख में ग़ालिब दामी ने लिखा है कि जिस दिन सऊदी अरब के विमानों ने ज़िबह किए गए विरोधियों के शवों को फेंका था उस दिन मैंने कहा था कि सऊदी अरब ख़तरे में है और उसकी उलटी गिनती शुरू हो गई है। जब सऊदी विमानों ने अपनी बमबारी से यमन के बच्चों का जनसंहार किया और स्कूलों व अस्पतालों को तबाह किया उस दिन मुझे विश्वास हो गया था कि सऊदी अरब की मौत आ गई है। फिर दोहा के साथ रियाज़ के संकट में वृद्धि, ईरान व सऊदी अरब के बीच संचारिक युद्ध बढ़ने और कुछ सऊदी राजकुमारों को बंदी बनाए जाने के बाद मुझे यक़ीन हो गया कि बिन सलमान, सऊदी अरब को राजनैतिक, आर्थिक और व्यापारिक दृष्टि से तबाह कर देंगे।

 

लेख में इराक़ के पूर्व तानाशाह द्वारा ईरान पर थोपे गए युद्ध की ओर इशारा करते हुए लिखा गया हैः बिन सलमान पर भी सद्दाम की तरह ही चैम्पियन बनने का भूत सवार था और उन्हें लग रहा था कि हर चीज़ उनके कंट्रोल में है और वे पूरी दुनिया को पराजित कर देंगे। इसी लिए उन्होंने कुछ त्वरित फ़ैसले किए जिनमें से अंतिम फ़ैसला अर्दोग़ान की आंखों के सामने और ट्रम्प की जानकारी के साथ सरकार विरोधी सऊदी पत्रकार जमाल ख़ाशुक़जी की हत्या, उनके शव के टुकड़े-टुकड़े करना और उसे समुद्र में फेंक देना था लेकिन इस काम का जो असली परिणाम सामने आया वह इस वास्तविकता को दर्शाता है कि मानवीय व वैश्विक आयाम से ख़ाशुक़जी ने बिन सलमान की हत्या कर दी है क्योंकि पूरी दुनिया बिन सलमान के विरुद्ध एकजुट हो गई और उसने इस पाश्विक कार्यवाही की निंदा की। तुर्की को भी एक बड़ा अवसर मिल गया कि वह सऊदी अरब के पैसों से अपनी करेंसी को मज़बूत बना ले।

 

ग़ालिब दामी ने लिखा है कि अंतर्राष्ट्रीय संस्थाओं में सऊदी अरब बदनाम हुआ और उसकी छवि बिगड़ गई। ट्रम्प ने भी बिन सलमान का बहुत कम बचाव किया, शायद वे भी उन लोगों में से एक थे जिन्होंने बिन सलमान के बचाव के बदले में एक बड़ी रक़म एेंठी। लेख के अंत में कहा गया है कि जमाल ख़ाशुक़जी हर दिन हज़ार बार बिन सलमान की हत्या कर रहे हैं, हज़ार बार उनके टुकड़े टुकड़े कर रहे हैं और हज़ार बार उन्हें समुद्र में फेंक रहे हैं। सऊदी अरब में नरेश और युवराज से अप्रसन्न राजकुमारों की बढ़ती संख्या, सऊदी अरब के आर्थिक स्रोतों में भारी कमी और पड़ोसी देशों के साथ सऊदी अरब की असंख्य समस्याओं के दृष्टिगत कहा जा सकता है कि ख़ाशुक़जी ने बिन सलमान की आत्मा को भी मार दिया है।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह ख़ामेनई का हज संदेश
We are All Zakzaky