ख़ाशुक़जी के मामले में सऊदी अरब में 5 शहज़ादे गिरफ़्तार

ख़ाशुक़जी के मामले में सऊदी अरब में 5 शहज़ादे गिरफ़्तार

सऊदी शासन के विरोधी एक सऊदी शहज़ादे ने इस बात का पर्दाफ़ाश किया कि सऊदी सरकार ने पिछले हफ़्ते शाही परिवार के 5 सदस्यों को, पत्रकार जमाल ख़ाशुक़जी के अपहरण का विरोध करने पर, गिरफ़्तार करके अज्ञात स्थान पर रखा है।

सऊदी अरब के मशहूर पत्रकार जमाल ख़ाशुक़जी जो सऊदी शासन की नीतियों की आलोचना करते थे, अपनी शादी से संबंधित औपचारिकताओं के संबंध में 2 अक्तूबर को इस्तांबोल में सऊदी वाणिज्य दूतावास गए लेकिन उसके बाद से उनके बारे में कोई जानकारी नहीं है। कुछ सूत्रों का कहना है कि सऊदी अरब की गुप्तचर सेवा के कर्मचारियों ने ख़ाशुक़जी को इस वाणिज्य दूतावास में यातना देने के बाद, जान से मार दिया।

जर्मनी में रह रहे सऊदी शहज़ादे ख़ालिद बिन फ़रहान आले सऊद ने अपने ट्वीटर पेज पर सऊदी सरकार पर इल्ज़ाम लगाया कि वह विदेश में अपने विरोधियों को द्विपक्षीय बैठकों में आमंत्रित कर उनका अपहरण कर रही है।

उन्होंने इस बात का उल्लेख करते हुए कि सऊदी सरकार की जमाल ख़ाशुक़जी का अपहरण करने से पहले उनका अपहरण करने की योजना थी, कहा कि सऊदी गुप्तचर अधिकारियों ने क़ाहेरा में सऊदी वाणिज्य दूतावास के अधिकारियों से मुलाक़ात के लिए मिस्र जाने के बदले में उन्हें कई मिलियन डॉलर की लालच दी थी।

शहज़ादा ख़ालिद सऊदी अरब में मोहम्मद बिन सलमान के युवराज बनने के बाद से, इस देश से फ़रार करके जर्मनी चले गए। उन्होंने सोमवार को अपने ट्वीटर हैंडल पर लिखाः "ख़ाशुक़जी की हत्या में सऊदी अरब के रोल के साबित होने की स्थिति में वह जनता से मौजूदा सरकार के ख़िलाफ़ प्रदर्शन की अपील करेंगे।"


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह ख़ामेनई का हज संदेश
We are All Zakzaky