रोहिंग्या मुसलमानों की वतन वापसी।

रोहिंग्या मुसलमानों की वतन वापसी।

बांग्लादेश और म्यांमार के बीच रोहिंग्या प्रवासियों के देश वापसी के वादे पर अमल करने का समय सीमा तय की गई है......

अहलेबैत (अ )न्यूज़ एजेंसी अबनाः प्राप्त सूत्रों के अनुसार बांग्लादेश और म्यांमार के बीच रोहिंग्या प्रवासियों के देश वापसी के वादे पर अमल करने का समय सीमा तय की गई है।
सूत्रों के अनुसार बांग्लादेश और म्यांमार के प्रतिनिधिमंडल ने रोहिंग्या संकट के हवाले से बातचीत की, जिसमें सभी स्थितियों की समीक्षा करने के बाद म्यांमार सरकार प्रवासियों को वापस लेने के लिये तैयार हो गई है।
दोनों देशों ने तय किया कि प्रवासियों की वापसी 2 साल के अंतराल में पूरी हो पाएगी।
सूत्रों के अनुसार म्यांमार सरकार ने अपने देश वापस लौटने वालों को शुरू में आवास देने की और बाद में उनको उनके असली घरों में वापस भेजने का निर्णय लिया है, जबकि रोहिंग्या मुसलमानों को नागरिकता देने के मामले में कोई बात नहीं हुई है।
 


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

Quds cartoon 2018
We are All Zakzaky