आयतुल्लाह शेख़ ईसा क़ासिम की जान ख़तरे में।

 आयतुल्लाह शेख़ ईसा क़ासिम की जान ख़तरे में।

शेख़ ईसा क़ासिम के स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं और उनके जीवन को ख़तरे में डालने के लिए बहरैन की सरकार पूर्ण रूप से ज़िम्मेदार है

अहलेबैत (अ )न्यूज़ एजेंसी अबनाः प्राप्त सूत्रों के अनुसार बहरैन से प्राप्त सूचना के अनुसार पिछले सप्ताह सर्जरी होने के बाद भी बहरैन की सरकार शिया लीडर शेख़ ईसा क़ासिम को सही स्वास्थ्य सेवाएं नहीं दे रही है।
आले ख़लीफा सरकार ने ऑप्रेशन के तुरंत बाद शेख़ ईसा क़ासिम को चिकित्सालय से वापस उनके अलवर स्थित घर भेजकर नज़र बंद कर दिया है, हालांकि उन्हें अस्पताल में अच्छी सुविधाएं मिल सकती थीं।
ज्ञात रहे कि 80 वर्षीय शेख़ ईसा क़ासिम की पिछले 2 महीनों में यह दूसरी सर्जरी थी।
शेख़ ईसा क़ासिम के स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं और उनके जीवन को ख़तरे में डालने के लिए बहरैन की सरकार पूर्ण रूप से ज़िम्मेदार है।
बहरैनी जनता द्वारा सरकार को चेतावनी देकर कहा गया है कि सरकार यह याद रखे कि शेख़ ईसा क़ासिम के जीवन को किसी भी तरह के ख़तरे की सूरत में सरकार को इसका जवाब और हिसाब देना पड़ेगा।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

conference-abu-talib
सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह ख़ामेनई का हज संदेश
We are All Zakzaky