ईसाई बिशप ने फ़िलिस्तीन के संबंध में किए गए अमेरिकी फ़ैसले को रद्द किया।

ईसाई बिशप ने फ़िलिस्तीन के संबंध में किए गए अमेरिकी फ़ैसले को रद्द किया।

ईसाई धर्मगुरु ने फ़िलिस्तीन को इस्राईल की राजधानी बनाए जाने के अमेरिकी निर्णय को रद्द करते हुए बैतुल मुक़द्दस में मौजूद मुसलमानों और ईसाइयों के पवित्र स्थल की रक्षा के लिए मिलजुल कर एक रणनीति तय करने का संकेत दिया है।

अहलेबैत न्यूज़ एजेंसी अबना: ईसाई धर्मगुरु ने फ़िलिस्तीन को इस्राईल की राजधानी बनाए जाने के अमेरिकी निर्णय को रद्द करते हुए बैतुल मुक़द्दस में मौजूद मुसलमानों और ईसाइयों के पवित्र स्थल की रक्षा के लिए मिलजुल कर एक रणनीति तय करने का संकेत दिया है।
बिशप अताउल्लाह हन्ना ने मीडिया से बातचीत करते हुए अपने इन विचारों को प्रकट किया उन्होंने कहा कि ट्रम्प ने 6 दिसम्बर को जो पक्षपाती और अपमानजनक निर्णय लिया था जिसे संयुक्त राष्ट्र की जनरल असेंबली सहित पूरी दुनिया ने रद्द कर दिया है।
उन्होंने कहा कि अमेरिका के इस निर्णय ने ईसाईयों और मुसलमानों के दिलों को चोट पहुँचाई है और उनके धार्मिक स्थलों का उपहास किया है जिस पर मुसलमान और ईसाई दोनों के दिल दुखी हैं उन्होंने कहा कि फ़िलिस्तीन के रहने वाले मुसलमान और ईसाई अमेरिका के इस निर्णय को रद्द करते हुए अपने पवित्र स्थल की सुरक्षा के लिए अंतिम हद तक जाऐंगे और हर काम जो सही होगा उसे अंजाम देंगे।
ज्ञात रहे कि 6 दिसंबर 2017 को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने बैतुल मुक़द्दस को इस्राईल की राजधानी बनाए जाने की घोषणा की थी।


सम्बंधित लेख

अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

Arba'een
आशूरा: सृष्टि का राज़
सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह ख़ामेनई का हज संदेश
We are All Zakzaky