विश्व समुदाय को अमरीका के एकपक्षीयवाद के मुक़ाबले में डट जाना चाहिएः ईरान

विश्व समुदाय को अमरीका के एकपक्षीयवाद के मुक़ाबले में डट जाना चाहिएः ईरान

संयुक्त राष्ट्र संघ में ईरान के स्थाई राजदूत ने शुक्रवार को अमरीका की एकपक्षीय नीतियों और ग़ैर क़ानूनी कार्यवाहियों को संयुक्त राष्ट्र संघ के घोषणापत्र, क़ानून व्यवस्था और बहुपक्षीयवाद के विरोधाभास क़रार दिया और बल दिया कि विश्व समुदाय को अमरीका के एकपक्षीयवाद के मुक़ाबले में डट जाना चाहिए।

श्री ग़ुलाम अली ख़ुशरू ने अंतर्राष्ट्रीय शांति व सुलह के विषय पर आयोजित सुरक्षा परिषद की बैठक में कहा कि अमरीका की एकपक्षीय कार्यवाहियों और अकारण नीतियों ने अंतर्राष्ट्रीय सहयोग और बहुपक्षवाद की बुनियादों को ख़तरे में डाल दिया है। उन्होंने कहा कि अमरीका के इसी बर्ताव के कारण वाशिंग्टन मानवाधिकार परिषद, यूनेस्को, पेरिस समझौते और परमाणु समझौते से निकल गया।

संयुक्त राष्ट्र संघ में ईरान के स्थाई राजदूत ने परमाणु समझौते से अमरीका के निकलने और एकपक्षीय प्रतिबंधों को फिर से लागू किए जाने को सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव क्रमांक 2231 के विरुद्ध क़रार दिया और कहा कि संयुक्त राष्ट्र संघ के इतिहास में पहली बार सुरक्षा परिषद के स्थाई सदस्य और वीटो पावर से संपन्न देश के रूप में अमरीका दुनिया के दूसरे राष्ट्र को सुरक्षा परिषद के एक प्रस्ताव का उल्लंघन न करने के कारण बल्कि अपना अनुसरण न करने के कारण सज़ा दे रहा है।

श्री ग़ुलाम अली ख़ूशरू ने कहा कि यह धमकियां संयुक्त राष्ट्र संघ के घोषणापत्र और अंतर्राष्ट्रीय संबंधों के लिए बहुत गंभीर हैं जिनका ठोस और गंभीर अंतर्राष्ट्रीय जवाब दिए जाने की आवश्यकता है।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

conference-abu-talib
सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह ख़ामेनई का हज संदेश
We are All Zakzaky