अपनी विफलता को छिपाने के लिए किये जा रहे हैं ईरान विरोधी दावे

अपनी विफलता को छिपाने के लिए किये जा रहे हैं ईरान विरोधी दावे

ईरान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने अरब लीग के चार देशों की ओर से किये गए दावे को ईरानोफ़ोबिया का भाग बताया है।

बहराम क़ासेमी ने कहा कि इस्लामी गणतंत्र ईरान, सदैव ही पड़ोसी देशों में स्थिरता का पक्षधर रहा है।  उन्होंने कहा कि हम पड़ोसी देशों का सम्मान करते हैं और दूसरे देशों के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप की नीति हमारे एजेन्डे में शामिल नहीं है।  विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि अरब लीग के चार देशों की ओर से ईरान के विरुद्ध दावा, आम जनमत को दिगभ्रमित करने के उद्देश्य से किया जा रहा है।

संयुक्त अरब इमारात, सऊदी अरब, बहरैन और मिस्र के विदेश मंत्रियों ने मंगलवार को क़ाहिरा में अरब संघ की बैठक में ईरान पर अरब देशों के आंतरिक मामलो में इस्तक्षेप का आरोप लगाया था।  अरब देशों के संदर्भ में अमरीका की टम्प सरकार की वर्तमान नीति इन देशों के दोहन पर आधारित है।  ट्रम्प के कथनानुसार यह अरब देश पूरी तरह से अमरीका पर निर्भर हैं।

जो लोग अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर राजनीति को समझते हैं उनके लिए यह बात बिल्कुल ही स्पष्ट है कि अमरीका ने सऊदी अरब और संयुक्त अरब इमारात के सहयोग से सीरिया से यमन तक आतंकवादी गुटों को सशस्त्र कर रखा है।  सीरिया में दाइश और नुस्रा फ़्रंट की उपस्थिति के साथ ही दक्षिणी यमन में अलक़ाएदा की सक्रियता, अमरीका और उसके अरब घटकों के प्रयासों का ही परिणाम हैं।

सीरिया से अलग हटकर अगर हम देखें तो पाएंगे कि यमन संकट में भी अमरीका, सऊदी अरब तथा संयुक्त अरब इमारात के साथ सहकारिता कर रहा है।  यमन में अपनी विफलताओं को छिपाने के लिए यह देश, ईरान पर यमन एवं सऊदी अरब में हस्तक्षेप का आरोप लगा रहे हैं।  ईरान की ओर से यमन के माध्यम से सऊदी अरब में मिसाइल हमले का  निराधार आरोप, अरब संघ के इन चार देशों की योजना का भाग है।  इस प्रकार के निराधार दावे का मुख्य उद्देश्य ईरानोफ़ोबिया को हवा देना है। इन परिस्थितियों में अमरीका ने ईरानोफ़ोबिया को बढ़ाने और अरब देशों का दोहन करने के उद्देश्य से आतंकवादियों के समर्थकों के समर्थन की नीति को अपनी विदेश नीति में शामिल किया है।  अपनी सत्ता को सुरक्षित रखने के लिए सऊदी अरब, संयुक्त अरब इमारात और बहरैन ने अमरीका का अंधा अनुसरण शुरू कर रखा है।  इसीलिए वे वास्तविकता को बदलकर पेश कर रहे हैं। 


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

आशूरा: सृष्टि का राज़
सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह ख़ामेनई का हज संदेश
We are All Zakzaky