हज़रत मासूमा-ए-क़ुम की ज़ियारत का सवाब।

हज़रत मासूमा-ए-क़ुम की ज़ियारत का सवाब।

जिसने भी हज़रत मासूमा की ज़ियारत की लेकिन इस शर्त के साथ कि

अबनाः इमाम रेज़ा अ. ने फ़रमायाः
مَنْ زارَها عارِفاً بِحَقِّها فَلَهُ الْجَنَّةُ
जिसने भी हज़रत मासूमा की ज़ियारत की लेकिन इस शर्त के साथ कि उनकी सही मारेफ़त (पहचान) भी रखता हो तो उस पर जन्नत वाजिब है।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

Arba'een
आशूरा: सृष्टि का राज़
सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह ख़ामेनई का हज संदेश
We are All Zakzaky