मानवाधिकार उच्चायुक्त के बयान पर आग बबूला हुईं अमेरिकी प्रतिनिधि

मानवाधिकार उच्चायुक्त के बयान पर आग बबूला हुईं अमेरिकी प्रतिनिधि

संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी प्रतिनिधि निकी हेली वाशिंगटन और तेल अवीव के ख़िलाफ़ संयुक्त राष्ट्र संघ के मानवाधिकार परिषद की उच्चायुक्त की प्रतिक्रिया पर आग बबूला हो गई हैं।

गुरुवार को संयुक्त राष्ट्र संघ में अमेरिकी प्रतिनिधि निकी हेली उस समय अपने गुस्से पर क़ाबू नहीं रख सकीं जब उन्होंने संयुक्त राष्ट्र संघ के मानवाधिकार परिषद की उच्चायुक्त द्वारा वाशिंग्टन और तेल अवीव को मानवाधिकारों के उल्लंघन का दोषी क़रार देते हुए इन दोनों सरकारों पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की। प्राप्त रिपोर्ट के मुताबिक़, निकी हेली ने मानवाधिकार उच्चायुक्त मिशेल बेशलेट के बयान पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए उसे पक्षपातपूर्ण बताया और कहा कि मिशेल बेशलेट द्वारा इस्राईल और अमेरिका पर लगाए गए सभी आरोप ग़लत हैं।

संयुक्त राष्ट्र संघ के मानवाधिकार परिषद की उच्चायुक्त मिशेल बेशलेट के बयान पर क्रोधित अमेरिकी प्रतिनिधि निकी हेली ने दावा किया के मिशेल भी अपने पूर्व अधिकारियों की तरह अमेरिका और इस्राईल विरोधी नीतियों पर काम कर रही हैं। उन्होंने कहा कि अमेरिका इन्हीं कारणों से जून वर्ष 2018 में संयुक्त राष्ट्र संघ के मानवाधिकार परिषद से बाहर निकल गया था। निकी हेली ने कहा कि वॉशिंग्टन यह समझता था कि उसके इस परिषद से निकल जाने के बाद उस पर आरोप लगाने का सिलसिला बंद हो जाएगा लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

उल्लेखनीय है कि संयुक्त राष्ट्र संघ के मानवाधिकार परिषद की उच्चायुक्त मिशेल बेशलेट ने अपना पद संभालने के बाद अपने पहले ही बयान में कहा था कि अमेरिका की इमिग्रेशन नीति और फ़िलिस्तीनियों के विरुद्ध ज़ायोनी शासन का अत्याचारी और आपराधिक रवैया, मानवाधिकारों का खुला उल्लंघन है।


अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

आशूरा: सृष्टि का राज़
सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह ख़ामेनई का हज संदेश
We are All Zakzaky