अगर सुकून की ज़िन्दगी चाहते हो तो۔۔!

  • News Code : 452994
  • Source : विलायत डाट इन
Brief

बुरी हरकतों और आदतों में से एक दूसरों के बारे में बुरा सोचना और उनकी बातों में छान-बीन करना है जिनसे हमारा कोई मतलब नहीं है, यह बुराई बड़े गुनाहों में से है और क़ुरआन और हदीस दोनों में इसको नकारा गया है

یا أَیُّهَا الَّذینَ آمَنُوا اجْتَنِبُوا كَثیراً مِنَ الظَّنِّ إِنَّ بَعْضَ الظَّنِّ إِثْمٌ وَ لا تَجَسَّسُوا وَ لا یَغْتَبْ بَعْضُكُمْ بَعْضاً أَ یُحِبُّ أَحَدُكُمْ أَنْ یَأْكُلَ لَحْمَ أَخیهِ مَیْتاً فَكَرِهْتُمُوهُ وَ اتَّقُوا اللَّهَ إِنَّ اللَّهَ تَوَّابٌ رَحیمٌ

ऐ ईमान लाने वालों! अपने बहुत से ख़्यालों से बचो, इस लिये कि (दिमाग़ में आने वाले) कुछ ख़्याल गुनाह होते हैं और कभी भी दूसरों की टोह में न रहना, और तुम में से कोई किसी की ग़ीबत (पीठ पीछे बुराई) न करे, क्या तुम में से कोई यह चाहता है कि अपने मरे भाई का गोश्त खाए? ज़रूर तुम्हे यह बहुत बुरा लगता है और अल्लाह से डरो, हक़ीक़त में अल्लाह बहुत ज़्यादा माफ़ करने वाला रहीम है। (सूरए हुजरात/ 12)

बुरी हरकतों और आदतों में से एक दूसरों के बारे में बुरा सोचना और उनकी बातों में छान-बीन करना है जिनसे हमारा कोई मतलब नहीं है, यह बुराई बड़े गुनाहों में से है और क़ुरआन और हदीस दोनों में इसको नकारा गया है।
यह बुरी आदत एक पुरानी बीमारी की तरह बहुत से लोगों के सुकून और चैन को छीन लेती है और अगर हम यह कहें कि इस आदत की वजह से आदमी शारीरिक मरीज़ भी हो जाता है तो यह भी ग़लत नहीं है इस लिये कि इस आदत के होते हुए आदमी का चैन व सुकून ख़त्म हो जाता है जो हर शरीर और आत्मा की बुनियादी ज़रूरत है।
वह ग़लत चीज़ जो इस आदत को बुरा बनाती है वह यह है कि दूसरों के बारे में हम सिर्फ़ अपने भ्रम और ख़्याल की वजह से ग़लत फ़ैसला करने लगते हैं।
ऐसे बहुत से घराने देखने में आते हैं जिन्होंने इश्क़ व मोहब्बत की बुनियाद पर अपनी ज़िन्दगी शुरू की लेकिन मियाँ बीवी में से एक या दोनों में पायी जाने वाली यह छोटी सी लेकिन ख़तरनाक बुरी आदत ने उनकी ज़िन्दगी को ऐसा नुक़सान पहुँचाया जिसकी भरपाई नहीं हो सकती थी जैसे यही कि वह लोग एक दूसरे से जुदा होने की सोचने लगे और अंत में तलाक़ ले बैठे और फिर वह बच्चे होते हैं जो ज़िन्दगी भर अपने माँ-बाप की ग़लतियों की सज़ा भुगतते हैं।

दूसरों के बारे में बुरा ख़्याल करने (बद गुमानी) का असर


1. अल्लाह नाराज़ होता हैः

इस बुरी आदत का सबसे बड़ा और बुरा असर यह होता है कि अल्लाह हमसे नाराज़ हो जाता है। अल्लाह की मर्ज़ी को हासिल करना उसके ख़ास बन्दों की एक इच्छा होती है और उसके साथ ही एक अच्छी ज़िन्दगी का सबसे बड़ा लक्ष्य भी यही होता है। अल्लाह ने साफ़ साफ़ कहा है कि वह बिल्कुल इस बुरी आदत से ख़ुश नहीं है इसलिए कि उसने इस आदत से बन्दों को राका है।

2. ज़िन्दगी का सुकून व चैन ख़त्म हो जानाः 

इस रूही (मानसिक) बीमारी का सबसे पहला असर इन्सान की ज़िन्दगी में यह होता है कि उसकी ज़िन्दगी का सुकून ख़त्म हो जाता है और वह दूसरों के बारे में कभी भी अच्छा नहीं सोच सकता।

3. आपसी प्यार ख़त्म हो जाता है जिसका नतीजा ख़ुद घर का बिखरना हैः

जैसा कि हमने पहले इशारा किया कि बहुत से घराने प्यार मोहब्बत के साथ अपनी एक अच्छी ज़िन्दगी आरम्भ करते हैं लेकिन इसी बुरी आदत की वजह से एक दूसरे पर भरोसा नहीं करते और हमेशा बुरा सोचते हैं, धीरे धीरे यह आपसी मोहब्बत को ख़त्म कर देता है और एक फ़ैमली को बरबादी की कगार पर ला खड़ा करता है।

4. समाज में आदमी की हैसियत ख़त्म हो जाती हैः

दूसरों से सम्बंध एक ऐसी चीज़ है जिसकी हर आदमी को अपनी ज़िन्दगी में ज़रूरत होती है अगर कोई अपने समाजी सम्बंधों में लगातार किसी के पीछे लगा रहे और उसकी बुराईयों को जानने की कोशिश करता रहे तो तय है कि दूसरे लोग ऐसे आदमीं से नाराज़ होकर उससे दूर रहने की कोशिश करेंगे, इस लिये कि कोई नहीं चाहता कि दूसरा हमेशा उसकी टोह में लगा रहे।

बद गुमानी (दुर्भावना) और दूसरों के बारे में बुरी सोच का इलाजः 
मासूमीन अलैहेमुस्सलाम की हदीसों को जब हम देखतें हैं और साथ ही वह बातें जो हमारे उल्मा हमें बताते हैं, उनसे पता चलता है कि सबसे अच्छा तरीक़ा यह है कि ऐसी घाटियों में नहीं जाना चाहिये जहाँ हमारा जाना सही नहीं है। इनमें से एक वह जगह है जहाँ हम किसी के बारे में नहीं जानते और सिर्फ़ अपने वहेम और ख़्याल की वजह से उसके बारे में आंकड़े लगाते हैं।
सूरए असरा की आयत 36 में इरशाद हैः

وَ لا تَقْفُ ما لَیْسَ لَكَ بِهِ عِلْمٌ إِنَّ السَّمْعَ وَ الْبَصَرَ وَ الْفُۆادَ كُلُّ أُولئِكَ كانَ عَنْهُ مَسْۆُلاً؛

जिसके बारे में तुम नहीं जानते ( इल्म नहीं रखते) उसका अनुसरण न करो, इसलिये कि कान, आँख और दिल से (एक दिन इस बारे में) सवाल किया जाएगा।
दूसरी बात यह है कि अगर हम किसी के बारे में कुछ नहीं जानते तो हमसे कहा गया है कि हम उसके बारे में बुरा सोचने के बजाए अच्छा सोंचें।
इमाम सादिक़ अ. फ़रमाते हैः

ضع امر اخیک علی احسنه حتی یاتیک ما یغلبک منه و لا تظنن بکلمه خرجت من اخیک سوءا و انت تجد لها غی الخیر مهملا

जब तक किसी के बुरा होने का इतमिनान तुम्हे नहीं है उस वक़्त तक उसके बारे में अच्छा सोचो, और उसकी कही बात के बारे में भी जब तक तुम अच्छा सोच सकते हो तो अच्छा ही सोचो। (कुलैनी-काफ़ी- जि.2 पेज 362)



conference-abu-talib
सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह ख़ामेनई का हज संदेश
We are All Zakzaky