हज़रत इमाम जाफ़र सादिक़ अलैहिस्सलाम के चरित्र के कुछ पहलू।

  • News Code : 703511
  • Source : wilayat.in
Brief

आपने फ़रमाया: मैं अपने ख़ुदा की नेअमतों को याद करके सज्दा कर रहा था।

नेअमत का शुक्र
मुआविया बिन वहब कहते हैं: मैं मदीना में हज़रत इमाम जाफ़र सादिक़ अलैहिस्सलाम के साथ था, आप अपनी सवारी पर सवार थे, अचानक सवारी से उतर गए, हम बाजार जाने का इरादा रखते थे लेकिन इमाम अलैहिस्सलाम सज्दा में गये और आपने एक लंबा सज्दा किया, मैं इंतजार करता रहा जब तक आपने सज्दा से सिर उठाया, मैंने कहा: मैं आप पर कुर्बान! मैंने आपको देखा कि सवारी से उतरे और सज्दे में चले गए? आपने फ़रमाया: मैं अपने ख़ुदा की नेअमतों को याद करके सज्दा कर रहा था।


सम्बंधित लेख

अपना कमेंट भेजें

आपका ईमेल शो नहीं किया जायेगा. आवश्यक फ़ील्ड पर * का निशान लगा है

*

پیام امام خامنه ای به مسلمانان جهان به مناسبت حج 2016
We are All Zakzaky