• इमाम मूसा काज़िम अलैहिस्लाम

    पैग़म्बर और ईश्वरीय मार्गदर्शक, सर्वसमर्थ व महान ईश्वर की असीम कृपा के प्रतीक और विश्व में उसकी दया एवं मार्गदर्शन के स्रोत हैं। वे इतिहास के अंधेरे में प्रज्वलित दीप की भांति चमके और उन्होंने वातावरण को प्रकाशमयी किया ताकि मनुष्य अज्ञानता के अंधेरे से निकल कर सच्चाई का मार्ग देख सके। अभी भी इन ईश्वरीय दूतों के मार्गदर्शन का प्रकाश सच्चाई की खोज में रहने वाले हृदयों को उज्जवल बनाए हुए है।

    आगे पढ़ें ...
  • इमाम मूसा काजिम की शहादत

    अहले बैत पैगम्बर अलैहिमुस्सलाम विशेषताओं में से एक विशेषता यह थी कि यह महान हस्तियां समाज में उत्पन्न होने वाली हर प्रकार की घटनाओं और दुर्घटनाओं की गहराईयों से भी पूरी तरह अवगत रहती थीं

    आगे पढ़ें ...
  • न्याय और हक के लिए शहीद हो गए हजरत हुसैन

    मोहर्रम की दसवीं तारीख की इस्लामी कैलेंडर में बहुत अहमियत है। मोहर्रम की दसवीं तारीख से हजरत इमाम हुसैन (रजि.) की पाकीजा शहादत बावस्ता (संबद्ध) है। हजरत इमाम हुसैन यानी इस्लाम धर्म के प्रवर्तक पैगम्बर हजरत मोहम्मद (सल्ल.) के नवासे (दौहित्र/पुत्री के पुत्र) जो लगभग चौदह सौ बरस पहले कर्बला (अरब देश इराक का रेगिस्तानी इलाका) के मैदान में ईमान और इंसाफ की खातिर, हक (औचित्य) की जंग में प्यासे ही शहीद कर दिए गए।

    आगे पढ़ें ...
  • हज़रत अली का जीवन परिचय

    आप का जन्म रजब मास की 13वी तारीख को हिजरत से 23वर्ष पूर्व मक्का शहर के विश्व विख्यात व अतिपवित्र स्थान काबे मे हुआ था। आप अपने माता पिता के चौथे पुत्र थे।

    आगे पढ़ें ...
  • इमाम मुहम्मद तक़ी अलैहिस्सलाम के शुभ जन्म दिवस की हार्दिक बधाई।

    ईश्वरीय दायित्व के उचित ढंग से निर्वाह के लिए पैग़म्बरे इस्लाम (स) के परिजनों में से प्रत्येक ने अपने काल में हर कार्य के लिए तार्किक और प्रशंसनीय नीति अपनाता था ताकि ईश्वरीय मार्गदर्शन जैसे अपने दायित्व का निर्वाह उचित ढंग से किया जा सके। इन महापुरूषों के जीवन में ईश्वर पर केन्द्रियता उनका मूल मंत्र रही। इस प्रकार न्याय को लागू करने, ईश्वर के बिना किसी अन्य की दासता से मनुष्यों को मुक्ति दिलाने और व्यक्तिगत एवं समाजिक संबन्धों में सुधार जैसे विषयों पर उनका विशेष ध्यान था।

    आगे पढ़ें ...
  • इमाम हुसैन की विचारधारा जीवन्त और प्रेरणादायक

    इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम का आंदोलन, एक एसी घटना है जिसमें प्रेरणादायक और प्रभावशाली तत्वों की भरमार है। यह आंदोलन इतना शक्तिशाली है जो हर युग में लोगों को संघर्ष और प्रयास पर प्रोत्साहित कर सकता है। निश्चित रूप से यह विशेषताएं उन ठोस विचारों के कारण हैं जिन पर इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम का आंदोलन आधारित है।

    आगे पढ़ें ...
  • मुहर्रम और इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम

    मुहर्रम का महीना मन-मस्तिष्क में भव्य एवं महान आन्दोलन की याद को जीवित करता है। मुहर्रम हुसैन इब्ने अली के नाम से जुड़ा हुआ है। हुसैन इब्ने अली उस महान व्यक्ति का नाम है जो वर्ष ६१ हिजरी क़मरी में करबला के मैदान में अपने ७२ निष्ठावान और त्यागी साथियों के साथ शहीद हुए। यह घटना, इस्लामी इतिहास में महान एवं भविष्य निर्धारण करने वाली घटना थी। इस घटना ने नैतिकता, वीरता तथा त्याग के अनुदाहरणीय दृष्य प्रस्तुत किये हैं

    आगे पढ़ें ...
  • हज़रत इमाम हसन अलैहिस्सलाम का ज़िन्दगी नामा (जीवन परिचय)

    हज़रत इमाम हसन अलैहिस्सलाम के वालिद(पिता) हज़रत इमाम अली अलैहिस्सलाम तथा आपकी वालिदा(माता) हज़रत फ़ातिमा ज़हरा अलैहस्सलाम थीं। आप अपने वालिदा(माता) वालिद(पिता) की प्रथम संतान थे।

    आगे पढ़ें ...
Quds cartoon 2018
We are All Zakzaky